तेरा पतंग . . . .

About This Poem:

“We all have dreams, wishes in our lives. And needless to say, we also have, within us, the potential to achieve those. However sometimes, it’s just a matter of the push from outside, a different perspective to make us see, and utilize that potential.”

This poem is a Hindi re-composition of my previous poem . . . “The Story of That Page.” I would love for you all to read that one too and share your thoughts on either!

You can find it by Clicking Here. Hope you enjoy this one!

कहीं खोया हुआ था मैं,
एक अँधेरी अलमारी के कोने में पड़ा,
मुझ जैसे और पांन्हों जैसे धुल खाता,
एक डायरी में कैद, ज़रा तनहा सा था मैं ।

कहीं खोया हुआ था मैं,
लफ़्ज़ों की एक लड़ी, कुछ ख्वाहिशें,
किसी की यादें, एक सपना खुद में समाये,
एक बेहद गहरी नींद में सोया था मैं ।

कहीं खोया हुआ था मैं,
अपनी बेचैन करवटों से परेशान,
एक ख़्वाब के बीतते पलों से हैरान,
यूँही, ज़रा बहका हुआ था मैं ।

कहीं खोया हुआ था मैं,
उस ख्वाब में मैं, चल पड़ा था वहाँ,
इफ़रात रंगों से सने बादल थे जहाँ,
उस नीले आकाश में, बेख़ौफ़ उड़ चला था मैं ।

यूँही खोया हुआ था मैं,
के जानता था, वो मंज़र हक़ीक़त नहीं,
और पांन्हों सा, मैं भी कोई परिंदा नहीं।
यही सब सोचकर, कुछ रोया भी तो था मैं ।

उस रोज़ भी कुछ खोया हुआ था मैं,
जब तुमने मेरी कहानी को पढ़ा था,
कुछ सोचकर, तुमने मुझे उस डायरी से फाड़ा था
इस नयी आज़ादी से, ज़रा घबराया हुआ था मैं ।

आज, इस पल भी, कुछ खोया हुआ हूँ मैं
पर कैद नहीं, उस डायरी से आज़ाद हूँ मैं,
उस ख़्वाबों के आसमान में, बेख़ौफ़ उड़ता हूँ मैं,
के इस पल, तेरी डोर से बंधा पतंग हूँ मैं


Image Obtained from google images. Edited using Photoshop. Credits to the sketch owner!

Did you enjoy the poem? I would love to know what you thought about it! Please share your thoughts in the comments below.

4 Replies to “तेरा पतंग . . . .”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s