एक सहर के कुछ ख़याल

Note:

I had made a translation of this poem in English too, and it’s titled: Thoughts of a Morning. I’d love for you all to view that too. It’ll definitely help to understand the words here for my readers who don’t read the Language, and for those who read both, I’d like to know which one you found better. Comment your choice.


Oh! This is my first poem in Hindi. I definitely feel more comfortable in English, but like they always say, “Comfort zone will only get you fat.” So, here I am, trying my hand at writing something in Hindi. Hope You All Enjoy!

एक सहर के कुछ ख़याल


किसी सहर मुझे एक ख़याल आया,
“के दुनिया ये बदरंग, आख़िर क्यों हो रही?
के सफेद से दिन, और स्याह सी ये रातें,
दो रंगों की ये तस्वीर, आख़िर क्यों हो रही?”

किसी सहर मुझे एक ख़याल आया,
“के जीना एक आदत सी क्यों लगने लगी?
के आग़ाज़ और अंजाम क्यों एक से लगें,
सादी राहों से क्यों, यारी सी लगने लगी?”

किसी सहर मुझे एक ख़याल आया,
“के क्यों एक घुटन सी मालूम हो रही?
के आज़ाद क्यों नही, इस फ़साने से हम,
दुनिया काले शीशे में, कैद मालूम हो रही।”

इन ख़यालों पर फिर मुझे ये सवाल आया,
“के मुझे ये उलझन, आख़िर क्यों हो रही?
के नज़र में अगर कोई तक़लीफ़ नही,
तो नज़रिये में तब्दीली, आख़िर क्यों हो रही?”

जवाब में रूह ने ये सवाल खड़ा किया,
“के कलम की लहू में अभी कमी तो नही।
के बदलो नज़्म-ए-ज़िन्दगी के अल्फ़ाज़ थोड़े,
कहानी लकीरों की मोहताज, आख़िर क्यों हो रही?”

Amittras

Click here for the English Translation!


Follow the blog for more such thoughts, and my other poems can be found HERE.

2 Replies to “एक सहर के कुछ ख़याल”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s